pet kee beemaariyon ke ghareloo upchaar

पेट की बीमारियों के घरेलू उपचार – पुरुष रोग का घरेलू उपचार – pet kee beemaariyon ke ghareloo upchaar – purush rog ka gharelu upchar

पेट की बीमारियों के घरेलू उपचार

पेट में अम्लता (एसिडिटी/Acidity) व गैस (Gas formation in stomach) – एक लौंग और एक इलायची प्रत्येक भोजन व नाश्ता के बाद लें लेने पर कभी भी एसिडिटी व गैस नहीं होती ।

पेट की गैस (gas formation in stomach) – पेट की गैस की बीमारी यदि पुरानी न हो तो निम्नलिखित पेट की गैस-निवारक चटनी के सेवन से लाभ प्राप्त किया जा सकता है –
1. मुनक्का (बीज निकालकर) 30 ग्राम, 2. अदरक-6 ग्राम, 3. सौंफ बड़ी-6 ग्राम, 4. काली मिर्च-3 ग्राम, 5. सेंधा नमक – 3 ग्राम (या स्वादानुसार) ।

इन पांचों वस्तुओं को थोड़े पानी में पीसकर चटनी बना लें। इसे दोनों समय भोजन के समय रोटी या भात के साथ आवश्यकतानुसार 1-2 चम्मच चटनी की भांति चाटें । आपको पेट की गैस और पेट खराबी में आराम मिलेगा ।

गैस की पीड़ा से छुटकारा दिलाने वाला गैसहर चूर्ण (gas relief mixture) – छोटी हरड़ (बाल हर्र) एक किलो इन्हें साफ करके दही की छाछ (मही) में फुलाइए । सुबह फुलते छाछ में डाल दीजिए । दूसरे दिन सुबह छाछ मे से निकाल कर पानी से साफ करके, छाया में कपड़े पर डाल कर सुखा लीजिये। जब सूख जाएं तब पुन: छाछ में डालिये | छाछ में डालकर सुखाने में ‘मही की भावना’ देना कहते हैं | इस प्रकार इन हर्रों को मही की 3-4-6 (छ: तक) भावनाएं दीजिये | भावना देने के बाद, सूख जाने पर, इन्हें महीन पीस लीजिये | बारीक चलनी से छान लीजिये |
इस प्रकार बनाये गए एक किलो छोटी हरड़ के चूर्ण में पाव किलो अजवाइन पीस कर मिला लीजिये । फिर इस चूर्ण में काला नमक रुचि अनुसार मिला लीजिये । बस उत्तम गैसहर चूर्ण तैयार है ।

सेवन विधि – भोजन के बाद सेहत के अनुसार, यह चूर्ण गुनगुने पानी से लें । (ठंडा पानी से भी ले सकते है) इसके सेवन से – 1. गैस की तकलीफ कभी नहीं होगी । 2. तकलीफ होने पर 5-6 मिनिट मे आराम होता है । 3. पाचन शक्ति भी बढ़ती है । दस्त साफ होते हैं । गैस का दर्द दूर करने के लिये यह अचूक, शर्तिया दवा है ।
चूर्ण बनाने की दूसरी विधि – इन हर्रों को रेत में भूंज लीजिये । खूब फूलती है । इन्हें पीस लीजिये । जल्दी पिस जाते है ।
तीसरी विधि – इस चूर्ण में 60 ग्राम सनाय (सोनामुखी) की पत्ती को हलका भुनकर चूर्ण बनाकर डालने से पुराने से पुराना बध्दकोष्ट (कब्ज) भी हफते भर में ठीक हो जाता है । सनाय की पत्ती, बिना भून का डालने से, पेट में भरोड़ आती है ।

पेट की बीमारियों के घरेलू उपचार – pet kee beemaariyon ke ghareloo upchaar – पुरुष रोग का घरेलू उपचार – purush rog ka gharelu upchar

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Comment