dhat rokne ki dawa

धात रोग के कारण, लक्षण और उपाय – Dhat Rog Himalaya Dhat Ki Dawa

dhatu rog medicine in himalaya – जब भी किसी व्यक्ति के मन में काम या सेक्स की भावना बढ़ती है! तो लिंग अपने आप कस जाता है और उसका अंग उत्तेजित अवस्था में आ जाता है! इस अवस्था में व्यक्ति के लिंग से पानी के रंग जैसी पतली परत निकलने लगती है! कम फीता के कारण, यह लिंग से बाहर नहीं आ पा रहा है, लेकिन जब व्यक्ति लंबे समय तक उत्तेजित रहता है, तो फीता लिंग के ऊपरी हिस्से में आता है, जिसे पुरुष जी स्पॉट कहा जाता है।

Lal Kitab in Hindi

आज के युग में, अनैतिक सोच और अश्लीलता के बढ़ने के कारण, आजकल के युवा पुरुष और महिलाएँ अक्सर अश्लील फ़िल्में देखते और पढ़ते हैं और अपने वीर्य और रज को गलत तरीके से बर्बाद करते हैं! ज्यादातर लड़के और लड़कियां केवल अपने विचारों में शारीरिक संबंध बनाना शुरू करते हैं। जिसके कारण उनका लिंग लंबे समय तक उत्तेजना की स्थिति में रहता है, और फीता बड़ी मात्रा में बहने लगता है! और ऐसा एक बार होता है जब यह सबसे अधिक बार होता है! जब स्थिति खराब हो जाती है और एक लड़की के दिमाग में आते ही उनके लिंग (वीर्य) बाहर आ जाते हैं, और उनकी उत्तेजना शांत हो जाती है! यह एक प्रकार का रोग है जिसे शूर्तवाद धातु रोग कहा जाता है।

धात रोग के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपाय
धात रोग के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक उपाय

धात रोग का प्रमुख कारण –

  • अधिक कामुक और अश्लील विचार रखना
  • बेचैन मन
  • अक्सर कुछ न कुछ दुख मन पर होता है
  • दिमागी कमजोरी है
  • जब किसी व्यक्ति के शरीर में पौष्टिक पदार्थों और विटामिनों की कमी हो जाती है
  • किसी बीमारी के कारण अधिक दवाई लेने पर
  • किसी के शरीर की कमजोरी और प्रतिरोधी श्रम की कमी
  • किसी बात की चिंता करना
  • प्रोस्टेट तरल पदार्थ का पतला होना
  • यौन अंगों की घोर कमजोरी
  • अपने मर्दाना पदार्थ को नष्ट करना और नष्ट करना (हस्तमैथुन अधिक)

और पड़े : धात दुर्बलता – गुप्त रोग ज्ञान

धात रोग के लक्षण –

  • लिंग के मुंह से लार टपकाना।
  • पानी की तरह पतला वीर्य।
  • शरीर की कमजोरी।
  • छोटी सी बात पर तनाव में आना।
  • चरम सीमाओं या शरीर के अन्य भागों में झटके या झटके।
  • पेट की बीमारी, कब्ज से परेशान या स्पष्ट नहीं होना।
  • सांस लेने में तकलीफ, सांस लेने में तकलीफ या खांसी।
  • शरीर के बछड़ों में दर्द।
  • कम या अधिक चक्कर आना।
  • शरीर में हर समय थकान महसूस होना।
  • शीघ्रता का अंत
  • किसी भी काम में मन का नाखुश होना और मन का अभाव होना इसके लक्षणों को दर्शाता है।


धत रोग के आयुर्वेदिक उपाय

  • गिलोय (टीनोस्पोरा): धतूरे की बीमारी से छुटकारा पाने के लिए 1 चम्मच शहद को 2 चम्मच गिलोय के रस में लेना चाहिए।
  • आंवला: रोज सुबह खाली पेट दो चम्मच आंवले के रस को शहद के साथ लें! यह जल्द ही धातु की पुष्टि करना शुरू कर देगा! आंवले के चूर्ण को सुबह और शाम दूध में मिलाकर पीने से भी धत रोग में बहुत लाभ मिलता है।
  • तुलसी: दोपहर का खाना खाने के बाद 3 से 4 ग्राम तुलसी के बीज और थोड़ी सी मिश्री मिलाकर पीने से जल्द लाभ होता है।
  • सफेद शतावरी अब्सॉर्बेंस: यदि 10 ग्राम सफेद मुसली पाउडर में मिश्री मिलाकर खाया जाए और उसके बाद लगभग 500 ग्राम गाय का दूध पीया जाए, तो यह बहुत फायदेमंद है! इस उपाय से शरीर को आंतरिक शक्ति मिलती है और व्यक्ति के शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है।
  • उड़द की दाल: अगर आप उड़द की दाल को पीसकर एक खांड में भूनते हैं, तो आपको जल्द ही जबरदस्त फायदा होता है।
  • ब्लैकबेरी की गुठली: जामुन की गुठली को धूप में सुखाकर उसका पाउडर बना लें और इसे रोजाना दूध के साथ खाएं। कुछ हफ्तों में करने के बाद ही आपकी धातु गिरना बंद हो जाएगी।
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Comment