sulemani janjira mantra

सुलेमानी जंजीरा – साबर मंत्र सुलेमानी रक्षा मंत्र तंत्र साधना

जहां सभी तंत्रों में तेज सुलेमानी तंत्र माना जाता है। क्योंकि इसमें सिद्धि शीघ्र और तेज होती है। ऐसा नहीं है कि बाकी प्रणाली प्रभावी नहीं है, क्यू के तंत्र का अर्थ किरिया है। जहां प्रार्थना का जाप किया जाता है। और व्यवस्था एक किरिया, समस्या का निवारण करती है। क्यू की किरिया का अर्थ काम हुआ और हुआ। इसलिए तंत्र नीचता नहीं सिखाता, मतली की समस्या के लिए झुकना नहीं चाहिए। जहाँ मैं एक बहुत ही प्रभावी काम दे रहा हूँ जो सुगम है।

सुलेमानी जंजीरा - साबर मंत्र सुलेमानी रक्षा मंत्र तंत्र साधना
सुलेमानी जंजीरा – साबर मंत्र सुलेमानी रक्षा मंत्र तंत्र साधना

सुलेमानी तंत्र साधना – क्या आपको भी निम्नलिखित परेशनिया है?

  • क्या आप पूरी तरह से गुरवत से घिरे हुए हैं?
  • क्या आप कर्ज में डूब रहे हैं?
  • क्या दुश्मन की साजिश के शिकार लोगों को शिकार बनाया जा रहा है?
  • क्या सभी रोजगार के रास्ते बंद हैं?

इसलिए इस अभ्यास ( sulemani janjira mantra ) को एक बार करें और फिर देखें कि आपके जीवन में कितना बदलाव आता है। यह एक बहुत ही पाक पंज तन पकलम है। इसे पूरी पवित्रता के साथ करें।
जिस कमरे में आप साधना कर रहे हैं, उसे साफ करें, इसे पोचा वैग्राल्गा के रूप में धोएं, फिर इस अभ्यास को शुक्ल पक्ष के पहले सप्ताह से शुरू करें और इसे 21 दिनों तक करना है

सुलेमन जंजर : सफेद कपड़े पहनें और सफेद रंग का प्रयोग आसानी से करें। पशिम को छोड़ कर जैसे नवाज़ के समय में बैठे थे। सिर की टोपी को सफेद रूमाल से ढककर बैठना चाहिए और अगरवती को बैठना चाहिए और इसे ध्यान के दौरान जलते रहना चाहिए। अगर आप आवेदन करना चाहते हैं तो तेल का दीपक लगा सकते हैं। सभी पहले गुरु गुरु की पूजा करने के बाद आज्ञा लें और फिर एक माला गुरु मंत्र की करें और सफेद हकीक माला के साथ निमन मंत्र की पांच माला का जप करें, अभ्यास में बहुत अनुभव हो सकता है। मन को खाड़ी में रखते हुए जप पूरा करें। जिस कमरे में आप ध्यान का अभ्यास कर रहे हैं, किसी को भी इस बात का विशेष ध्यान नहीं रखना चाहिए कि वे शराब पीकर न आएं। यदि आप माला के साथ माला नहीं बनाते हैं या इसका जाप करते हैं, तो इसे एक घंटे के लिए करें।

साबर मंत्र सुलेमानी तंत्र साधना – सुलेमानी जंजीरा

बिस्मिल्ला हे रेहमान ए र्र्हीम,
उदम बीबी फातमा मदद शेरे खुदा ,
चड़े मोहमंद मुस्तफा मूजी कीते जेर ,वरकत हसन हुसैन की रूह असा वल फेर।
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Comment